हवन का क्या है विज्ञान? # What is the science of Havana ?

 हवन का क्या है विज्ञान?

What is the science of Havan?

जब हवी या हव्य का उपयोग हवन कुंड में करके अग्नि के माध्यम से ईश्वर कि उपासना कि जाती है तो उसको हवन या अग्निहोत्र कहा जाता है। हवी या हव्य उन चीजों को कहतें है जिनका प्रयोग अग्नि के उत्पत्ति हेतु हवन कुंड में किया जाता है।

हवन कुंड में नवग्रह कि शांति के लिए नौ प्रकार के लकड़ियों का प्रयोग किया जाता है और साथ-साथ तिल, जौ, शहद, ऋतू फल, घी तथा मेवे का प्रयोग किया जाता है।


हवन सामग्री को चार भागों में बांटा जा सकता है।

Havan material can be divided into four parts.

क)    सुगन्धित सामग्री-     Aromatic Ingredients-

इसमे वैसा सामग्री रखा जाता है जो वातावरण में सुगंध फैलाये-जैसे-अगर, चन्दन, जायफल, जावित्री, लौंग, इलाइची इत्यादि।

ख)    पुष्टनी-

यानी जो सामग्री मजबूती प्रदान करता है। और नीरोग बनाने का कार्य करता है। जैसे-तिल, जौ, नारिअल, घी, चावल, शहद, दही इत्यादि।

ग)    मिस्टी-    मेवे, सूखे फल, दाख, छुहारा इत्यादि।

घ) रोग नाशक-

इसमे नौ प्रकार कि लकड़ियों को शामिल किये जातें हैं जिनके जलने से वातावरण में वैसे पदार्थ शामिल होतें हैं जो रोगों का नाश करतें हैं।

नव ग्रह कि लकड़ियाँ:-

भारत में युगों-युगों से यज्ञ और हवन करने का परंपरा है। यज्ञ करने के पीछे सिर्फ़ भक्ति, आशक्ति, मनोकामना कि पूर्ति के अलावा इसके पीछे एक बड़ा विज्ञान छिपा है आज हमलोग इसको समझाने का प्रयास करेंगे।

1. मदार या अकौन


2. अपामार्ग

3. कुश 

4. खैर 

5.गुलर 

6.  पलाश 

7.पीपल 

8.सम्मी 


9. दूर्वा 


1. स्वास्थ्य वर्धक-

 Health Boosters

हवन में अनेक प्रकार के औशाधिये गुणों से भरपूर लकड़ियों और पदार्थों का प्रयोग  किया जाता है जो वातावरण में सकारात्मक उर्जा का सृजन  करता है। जिसके कारण मनुष्य के शरीर में अच्छे और लाभकारी हारमोंस का स्राव होने लगता है और जहाँ तक हवन का प्रभाव जाता है वहाँ तक एक सकारात्मक उर्जा प्रवाहित होती है ,और हानिकारक जीवाणु और विषाणु भी नष्ट हो जातें हैं।

2. वर्षा में सहायक होता है हवन:

Havan helps in rain:

आप भी अनेक कहानियाँ पढ़ें होंगे जिनमे वर्षा के लिए यज्ञ और हवन का वर्णन मिला होगा। सनातन धर्म में कोई भी कर्म कांड ऐसा नहीं बतलाया गया है जो अविज्ञानिक हो।

हवन के सन्दर्भ में भी ऐसा हीं है। हवन करने से वातावरण में ऐसे परिवर्तन होतें हैं जो वर्षा के लिए ज़रूरी हैं। और जल ही जीवन है ऐसा तो सभी जानते है।

3. आस्था और अध्यात्म को बढ़ाता है हवन ।

Havan increases faith and spirituality.

हवन कि एक लम्बी प्रक्रिया होती है और अगर आप भी इस प्रक्रिया में भाग लेतें हैं तो इसका असर आपके विचारों पर भी पड़ता है और आप अध्यातिमिक होने लागतें हैं। ईश्वर के प्रति आपकी आस्था भी बढ़ती है और मन में सकारात्मक विचार उत्पन्न होने लगते हैं।

4. सामाजिक समरसता बढ़ाता है यज्ञ और हवन :-

Yagya and Havan increases social harmony

धार्मिक कर्मकांड, पूजा-पाठ, धार्मिक उपासनाएँ या अनेक प्रकार कि धार्मिक प्रक्रियाएँ को अकेले किया जा सकता है लेकिन यज्ञ एक सामाजिक और सामूहिक प्रक्रिया है जिसमे समाज के लोग आपस में मिलकर इस कार्य को संपन्न करतें हैं। जिसके परिणाम स्वरुप लोगों में आपसी प्रेम, विचार, सहयोग, जिम्मेवारियां और कर्मठता कि भावना पैदा लेतीं हैं और उत्तम समाज का निर्माण होता है।

5.  संकल्प कि भावना:-

increases Sense of determination: -

यग्य  में संकल्प लिया जाता है और हवन पूर्ण होने तक उस सकल्प के साथ कार्यों को पूर्ण करना होता है। तो कहने का सीधा तात्पर्य यह है कि हवन करने से ज़िन्दगी और अन्य कर्यों से जुडी संकल्प लेने का बल मिलाता है।

6. भाग्य के द्वार खोलने वाला:-

Gateway to Fate: -

हवन को भाग्य के द्वार खोलने वाला भी बताया गया है। जिस घर में प्रति-माह हवन किया जाता है उस घर के सारे दुःख, दरिद्रता, क्लेश और भय नष्ट हो जातें हैं और नए भाग्य के द्वार खुलातें हैं।

7.  जिंदगी में उत्थान लता है हवन:

Havan brings rise in life:

जैसे आग कि लापत हमेशा ऊपर कि ओर उठती है ठीक वैसे ही हवन करने वाले मनुष्य का जीवन श्रेष्ठतम  उचाईयों को छूता है। चाहे ज्ञान का क्षेत्र हो, सामजिक मान-सम्मान कि बात हो, आर्थिक सम्पन्नता कि बात हो, हवन करने से वह सब कुछ पाया जा सकता है जिसको आप पाना चाहतें है।

       जिस कामना के साथ यज्ञ किया जाता है पूरी कायनात उसको पूरा करने में लग जाती है सिर्फ़ आपकी कामना शुद्ध और परोपकारी होना चाहिए. एक बात हमेशा ध्यान रखना चाहिए कि ईश्वर के द्वारा वही प्रार्थना स्वीकार किया जाता है जिसमे सामाजिक हित पहले होता है।

8.   विषाणुओं का नाश करने वाला:-

Virus destroyer: -


इस बात का अनेक वार प्रयोग किया गया कि क्या वास्तव में हवन करने से वातावरण में पाए जाने वाले विषाणुओं का नाश  है। परीणाम में देखा गया कि यज्ञ में प्रयोग होने वाले आम कि लकड़ियों के धुएँ से 94 प्रतिशत तक आस-पास के वातावरण से विषाणुओं का नाश हो जाता है। यह प्रयोग लखनऊ के वैज्ञानिकों द्वारा किया गया था।

9. परोपकार का एक सुन्दर मौका है हवन -

Havan is a beautiful opportunity for charity


अगर आप हवन करते हैं तो आप न सिर्फ़ अपने लिए और अपने परिवार के लिए अच्छा कार्य करतें हैं बल्कि समुचित समाज के लिए एक अच्छा कार्य करतें हैं और इस बात कि चर्चा पहले भी किया गया है कि जो कार्य दूसरों के भलाई के लिए किया जाता है वह कार्य निश्चित रूप से फलीभूत होता है।  इसी कारण हवन के समय लिया गया संकल्प हमेशा उत्तम फल प्रदान करता है।


Previous
Next Post »