आँखों की समस्या से निजात कैसे पायें? How to get rid of the problem of eyes?

 आँखों की समस्या से निजात कैसे पायें?

How to get rid of the problem of eyes?



आँख हमारे शरीर का एक बहुत ही महत्त्वपूर्ण अंग है । इसके बिना ज़िन्दगी बीरान-सी हो जाती है। हलाकि आज कल हमारे लाइफस्टाइल ऐसे हो चुके है जिसके कारण हम खुद ही रोज़ अपने आँखों को नुक्सान पहुचने का काम करते रहते हैं । जिसके कारण EYE-SIGHT कमजोर होने लगती है। इस ब्लॉग को पढने के बाद आपको पूरी तरह समझ आ जायेगा कि आपको अपनी आँखों के लिए क्या करना चाहिए और क्या नहीं करना चाहिए ।

आइये सबसे पहले जानतें हैं कि वह कौन-सी पांच सबसे ज़्यादा बुरी आदतें हैं जिनके कारण आपकी आँखे कमजोर होने लगतीं हैं और साथ ही अनेक  समस्या उत्पन्न होने लगतीं हैं।

1. ज़्यादा मोबाइल या टेलीविज़न देखना:

Watch more mobile or television

पिछले 10 सालों में चस्मा पहनने वालों की संख्या में चार गुना का इज़ाफ़ा देखने को मिला है। इसका कारण साफ़ है कि आज कल लोग ज़्यादा से ज़्यादा समय स्क्रीन पर देखते हुए बिताते हैं । जब आप मोबाइल या टेलीविजन देखतें हैं तो आपकी पलक झपकने की प्रक्रिया कम होने लगती है और आपकी आँखें ड्राई होने लगतीं हैं। जिसके कारण आँखों में जलन होने और धुंधला दिखने जैसी समस्या उत्पन्न होने लगती है। वैसे तो आज-कल हमारा लाइफस्टाइल ही ऐसा हो गया है कि इन सब चीजों की आवश्यकता ज़रूरी हो गई है। लेकिन इस समस्या से बचने लिए कुछ महत्त्वपूर्ण क़दम उठाये जा सकतें हैं। हर आधे घंटें पर आप पांच मिनट का ब्रेक ले सकतें हैं और प्राकृतिक नज़ारा का आनंद ले सकतें हैं, या फिर एक गिलास पानी के लिए ब्रेक ले सकतें हैं। इससे आपके आँखों का तनाव घटेगा और पानी पीने से आपके आँखों की ड्राईनेस भी कम हो जायेगी ।

2. आँखों को मसलना:

Eye rubbing:

कई लोगों को आँखों को मसलने की आदत हो जाती है लेकिन वह नहीं जानते की वह जाने अनजाने में अपने ही  हाथों अपने आँखों के सूक्ष्म ब्लड वेसल्स को डैमेज कर देतें हैं । इतना ही नहीं अगर आपके हाथ साफ़ न हो तो कीटाणु भी आपके आँखों तक आसानी से पहुँच जाते हैं जिसके कारण आपके आँखों में अनेक समस्या उत्पन्न हो सकती हैं। आँखों को मसलने के वजाय आप साफ़ हाथो से अपने आँखों को सहला सकतें हैं ।

3. यात्रा के दौरान किताब पढना या मोबाइल देखना .

Reading a book or watching a mobile while traveling

लोग अक्सर यात्रा के दौरान किताब पढतें हैं , या फिर मोबाइल देखतें हैं। लेकिन आप हमेशा याद रखिये की जब आप यात्रा के दौरान किताब पढतें हैं या मोबाइल देखतें हैं तो आपकी आँखें टेक्स्ट या स्क्रीन पर ठीक से फोकस नहीं कर पाती है और आपकी आँखों पर दवाब बढ़ने लगता है जिसके कारण आँखों की समस्या होने लगती हैं। इस लिए आपको टहलते या यात्रा के दौरान मोबाइल या किताब नहीं पढना चाहिए ।

4. सनग्लास नहीं पहनना:  

Do not wear sunglasses:

सन-ग्लास पहनना सिर्फ़ फैशन नहीं है यह एक आवश्यक वस्तु है जो आपको सूरज से निकलने वाले अल्ट्रावायलेट किरणों से सुरक्षा प्रदान करता है और अतिरिक्त रौशनी को आँखों पर पड़ने से भी बचाता है। तेज धूप के UV किरणे आँखों की कोर्नियाँ और कोमल त्वचा के कोशिकाओं को हानि पहुँचा सकती है। इस लिए धूप में निकलतें समय उत्तम सनग्लास का प्रयोग करना बेहतर होता है।

5. कम रौशनी में पढना:

Less light to read:

कम रौशनी में पढ़ने से हमारे आँखों पर काफ़ी दवाब पड़ता है जिसके कारण हमारी आँखें कमजोर पड़ने लगतीं हैं और अगर आप रूम की रौशनी बंद करके रात के समय मोबाइल चलतें हैं तो आप यह मान लीजिये की आप आपनी आँखों के साथ अत्याचार कर रहें हैं।

ये थी हमारी पांच आदतें जो हमारी आँखों को काफ़ी नुक्सान पहुँचातीं है। अब आइये जानतें हैं उन तीन  आदतों के बारे मी जिसके प्रयोग से आप अपने ख़राब आँखों को फिर से ठीक कर सकतें हैं।

1. आँखों के सेहत के लिए आवश्यक भोजन:

Essential food for eye health:

अगर आप चाहतें हैं कि आप की आँखें बहुत लम्बे समय तक ठीक रहें तो कुछ चीजों को आप अपने डाइट में सामिल करना होगा। जैसे आप ज़्यादा से ज़्यादा हरी पत्तेदार शाग-शब्जियों का इस्तेमाल कर सकतें हैं क्योंकि लगभग सभी पत्तेदार सब्जियों में Zeaxanthin और lutein पाया जाता है, ये आपके आंखों को हानिकारक प्रभावों से बचाने में एक महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाता है। गाजर जिसमे Beta carotene और विटामिन-A होता यह भी आपके आँखों के लिए आवश्यक तत्व है जिसे आपको अवश्य लेना चाहिए । आम्बला में प्रचुर मात्रा में विटामिन-C होता है जो आपके आँखों के लिए काफ़ी ज़रूरी होता है। इसके अलावा आप omega-3 पाए जाने वाले खाद्य पदार्थ जैसे कि अखरोट, बादाम, सोयाबीन और मूंगदाल और मछली का सेवन कर सकतें हैं।

2. आँखों के लिए व्यायाम:

Exercises for the eyes:

आप आँखों के लिए व्यायाम सिर्फ़ 2 मिनट के लिए दिन में तीन-चार वार करतें है तो चमत्कारिक रूप से आपको अंतर महसूस होगा ।

पहला -अपनी आँखों को वृत्ताकार घुमाएँ फिर उसके बिपरीत भी करें, इसको 30 सेकंड के लिए करें ।

दूसरा-अपने आँखों को कस कर भींच लें और जल्दी से खोलें ऐसा तीन चार बार दुहरायें ।

तीसरा-अपने दोनों हथेलियों को आपस में तेजी से रगड़ें और हथेलियों की गर्माहट से आँखों को सेंकें ।

चौथा- तर्जनी और मध्यम उँगलियों के बीच आँखों के लिए एक एकुप्रेस्सुरे पॉइंट होता है इसे भी 30-30 सेकंड के लिए दोनों हाथों में दबाएँ ।

पाँचवे-सुबह 10 मिनट तक खली पैर हरे-हरे घास पर चलना और प्रकृतिं हरियाली को देखना ।

इतना करना कोई मुस्किल काम नहीं है बस लोग आलस करतें हैं या फिर करना भूल जातें हैं । इसके लिए आप मोबाइल में अलार्म या रिमाइंडर का सहारा ले सकतें हैं।

3. अपने लार से आँखों में काजल करना:

Mascara in the eyes with your saliva:

रात को सोने से पहले ब्रश करके सोये ताकी मुंह में कोई गन्दगी न रहे और सुबह उठने के अपने जीभ के नीचे से उंगली के सहारे लाड से अपने दोनों आँखों में काजल कर लें और 10 मिनट तक छोड़ दें। इस क्रिया को करने से आँखों की रौशनी तो बढती है आपके आँखों के डार्क सर्किल को भी ठीक कर देता है ।

इन्हें भी पढ़े :-

दूध घास के चिकित्सा उपयोग

स्वाभाविक रूप से उम्र बढ़ने को कैसे रोकें

खाद्य पदार्थ जो लिवर को साफ़ कर सकते हैं

मुल्तानी मिटटी से फेसपैक कैसे बनाए?

फैटी लीवर के लक्षण, कारण और प्राकृतिक उपचार


Previous
Next Post »