आपको खड़े होकर पानी क्यों नहीं पीना चाहिए ? why you shouldn't drink water standing up

 आपको खड़े होकर पानी क्यों नहीं पीना चाहिए ?

why you shouldn't drink water standing up

                  प्यास बुझाने के लिए पानी जैसा कुछ नहीं है। यह आपको हाइड्रेट रखने में अहम भूमिका निभाता है।और  इस तरह से पानी पीने से वास्तव में आपकी प्यास नहीं बुझती। चूंकि पानी सीधे अंदर जाता है और इसके आवश्यक पोषक तत्व और विटामिन लीवर और पाचन तंत्र तक नहीं पहुंच पाते हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि जब आप खड़े होते हैं और पानी पीते हैं, तो यह वास्तव में यह बहुत तेजी से आपके बॉडी सिस्टम में प्रवेश करता है और आप अपने फेफड़ों और हृदय के कार्यों को जोखिम में डाल देता है  । इस तरह ऑक्सीजन का स्तर भी गड़बड़ा जाता है।

                     हम सभी की आदत होती है कि हम अक्सर खड़े होकर तुरंत पानी पीते हैं। चूंकि हम सभी मानते हैं कि पानी हमें कुछ भी गलत नहीं कर सकता है, हम यह नहीं समझाते कि हम इसे कैसे ले रहे हैं-खड़े या बैठे। खैर हकीकत कुछ और है। जब आप खड़े रहकर पानी पीते हैं तो आपको पानी से जरूरी पोषण नहीं मिल पाता है। चौंक गए? अगर पानी का सही तरीके से सेवन नहीं किया जाता है, तो यह आपके लिए बहुत बुरा हो सकता है और आपको संभावित स्वास्थ्य समस्याओं के खतरे में डाल सकता है।

                       जब आप खड़े होकर पानी पीते हैं, तो जो पानी अंदर जाता है वह सीधे आपके शरीर के सिस्टम मे  एक झोंके की तरह जाता है, वास्तव में उन अंगों तक नहीं पहुँचता है जहाँ उसे काम करना चाहिए। और पानी के माध्यम से  जो अशुद्धियाँ बाहर जाने वाली हैं ,वह किडनी और ब्लैडर में जमा हो जाती हैं, और आपको बीमार करने लगती हैं।

                खड़े होकर पानी पीने से हड्डियों और जोड़ों को भी नुकसान पहुँचता है।  आप जोड़ों के दर्द, हड्डियों के नुकसान और शारीरिक कमजोरी का भी अनुभव कर सकते हैं।

इसलिए आपको हमेशा बैठ कर ही पानी पीना चाहिए।

                          उसी तरह आप बैठकर भोजन भी करें। हमारे शरीर को इस तरह से डिज़ाइन किया गया है कि जब हम बैठते हैं और अपनी पीठ को सीधा रखते हैं तो हमें अधिकतम स्वास्थ्य लाभ मिलते हैं। जब हम बैठकर अपना पानी पीते हैं, तो पोषक तत्व मस्तिष्क तक पहुँचते हैं और उसकी गतिविधि को बढ़ावा देते हैं। यह इस तरह से बेहतर पाचन में भी मदद मिलती है। हमारे द्वारा पीया गया पानी इस तरह से नियमित रूप से डिज़ाइन किए गए ट्रैक से होकर गुजरता है और यह सुनिश्चित करता है कि सभी अंगों को सभी उचित लाभ मिले। विषाक्त पदार्थ दूर हो और, अशुद्धियाँ बाहर निकल-निकल जाएँ और आपके स्वास्थ्य में समग्र रूप से सुधार हो सके।

इन्हे भी पढ़ें :- 

पालक खाने के क्या हैं फायेदे ? 

किस दिशा मे बैठ कर आपको खाना चाहिए ? 

चश्मा उतारने के घरेलू उपाए


Previous
Next Post »